सर्वाइकल स्पोंडीलाईटिस के कारण एवं घरेलु उपचार ।

आजकल की भागदोड़ भरी जिंदगी में हम अपनी सेहत का धयान  पूरी तरह से नहीं  रख पाते और व्यायाम भी कर नहीं पाते जिसके कारण कई तरह के रोग हमें घेरे रखते हैं । जोड़ो के दर्द , कमर दर्द,सर दर्द ,तनाव ,अनिद्रा ,सर्वाइकल दर्द , आज कल आम हो गया है. सर्वाइकल स्पोंडीलाईटिस एक तरह का गर्दन का गाठिया होता है । सभी उम्र के लोगों में और अज कल तो युवाओं में भी ये काफी देखने मैं मिल रही है।

सर्वाइकल स्पोंडीलाईटिसके कारण :

अधिक वात वर्धक आहार जेसे चावल , राजमह,उड़द की दाल ,आलू ,मटर,गोभी,कड़ी ,लस्सी अदि से वात अधिक होने के कारण सर्वाइकल दर्द हो सकता है। पोष्टिक आहार न लेने से भी हो सकता है । ज्यादा देर कुर्सी पे बेठे रहना , गर्दन झुका के काम करना , मोबाइल का अधिक प्रयोग करना गर्दन झुका के करने वाले काम इसके कारण एवं बेठने और चलने के गलत पोस्चर से हो सकते हैं । गर्दन पर दबाव पड़ने से या गलत व्यायाम करने से भी समस्या हो सकती है । हमारे सर्वाइकल मनको मैं एक कुदरती झुकाव या कर्व होता है जो समय के साथ सीधा होने लगता है । और आगे चलकर सर्वाइकल की समस्सया को खड़ा करता है ।

सर्वाइकल स्पोंडीलाईटिस के लक्षण :

गर्दन में जकड़न एवं दर्द ।

बाजु में दर्द ।

सर के पीछे दर्द या पुरे सर मैं दर्द ।

गर्दन में सोजिश ।

गर्दन से लेकर नीचे कमर तक दर्द जाना ।

चक्कर आना ।

उलटी आना या उलटी का मन होना ।

नींद कम आना ।

गर्दन में कड़ कड़ की आवाज आना ।

गर्दन हिलाने डुलाने से दर्द का अधिक होना ।

सर्वाइकल स्पोंडीलाईटिस के घरेलु उपचार :

व्यायाम करने से दर्द में आराम मिलता है , व्यायाम डॉक्टर  की सलाह से करें क्यूँ की गलत व्यायाम से समस्सया अधिक बड़ सकती है ।

अदरक , सोंठ , हींग अदि में ओषधिय गुण होते हैं और वात को भी शांत करता है खाने में जरुर इस्तिमाल करें ।

रोजाना हल्दी वाला दूध पिएँ इससे दर्द कम होगा और सोजिश में भी आराम मिलेगा ।

लहसुन का इस्तेमाल जरुर करें , या रोजाना लहसुन के २ बीज खाएं ।

तिल के तेल गर्म करके रोजाना हलकी मालिश करें ।

गर्म पानी की बोतल से सिकाई करें दर्द एवं सोजिश में आराम मिलेगा ।

सर्वाइकल स्पोंडीलाईटिस कोई लाइलाज बीमारी नहीं है थोड़ा ध्यान रखते हुए हम इससे बच सकते हैं ।

समस्सया अधिक होने पे डॉक्टर की सलाह लें . आयुर्वेद में पंचकर्म में पोटली स्वेद एवं ग्रीवा वस्ति से बहुत लाभ होता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *